रविवार, 12 दिसंबर 2010

नयना


नैनी ताल की
यह नयना कर झील
देखती रहती है ,
गम्भीर होते दृढ चित्त
पहाड़ को पति वत !
हरे भरे लम्बे होते
स्वस्थ पेड़ों को पुत्रवत !
गुन गुनाती बादलों के संग
दिल खुश हवाओं को पुत्रीवत !
और सबसे बाते करती ,
स्नेह जल से बांधती
आँखों के एक कोर से
दूसरी कोर तक डबडबाई ,
पर बिना छलके ,
मन्त्र मुग्ध कर देती है !
अपनी अबूझ जादू से
मन मोह लेती है स्त्रीवत !
नैनी ताल की यह नैना कार झील !

31 टिप्‍पणियां:

  1. कितना सुंदर बिम्ब लिया है..... बेहद सुंदर रचना ..... नैनीताल के झील सी....

    उत्तर देंहटाएं
  2. झील, पेड़, पहाड़, एक अनूठा सम्बन्ध प्रकृति अंगों का।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह, मन मोह लिया ... चित्र भी और कविता भी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह अच्छा लगा नैना झील के मन की बात आपकी जुबानी जानना

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत मन से पढ़ी आपकी प्यारी सी कविता एक प्रशंसकवत ... !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. prakarti k rango ne man moh liya .............
    http://amrendra-shukla.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. आँखों के एक कोर से
    दूसरी कोर तक डबडबाई !
    ..............
    सुंदर विम्ब !!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. समग्र दृश्य का यह संवेदित मानवीकरण बहुत अच्छा लगा !" आँखों केएक कोर से दूसरी कोर तक डबडबाई "....पहाड़ को पतिवत व पेड़ों को पुत्रवत देखती सलिला सम्मुख साकार हो गयी ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. prkriti ka bhut hi sundar manvikrn . kvita me jo jheel ki trlta bhasit ho rhi hai vhi iski khoobsoorti hai .

    उत्तर देंहटाएं
  10. aapke shabdon के maadhyam से देख li ये naina jheel ..... बहुत suna tha ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. नैनी ताल की
    यह नयना कर झील

    मन मोह लेती है स्त्रीवत !
    नैनी ताल की यह नैना कार झील !


    उषा जी कई बार पढ़ी आपकी कविता ....
    यह 'कर झील ' या 'कार झील ' का अर्थ समझ नहीं पाई ....

    उत्तर देंहटाएं
  12. हरकीरत जी ! यह नयनाकार झील है !जो वास्तव में आँखों के आकार की है !आपने ध्यान दिया ! धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  13. उषा जी ,
    आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ ...और सच मानिये कि अब तक बहुत अच्छी कविताओं को पढ़ने से महरूम थी ...
    आपकी कई कविताएँ पढ़ डालीं ..सीली माचिस बहुत अच्छी लगी ...और यह नैना झील भी बहुत खूबसूरत रचना है ...

    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार ..कभी मेरा यह ब्लॉग भी देखें ...मुझे सुकून मिलेगा ..आभार

    http://geet7553.blogspot.com/2010/12/blog-post_24.html

    उत्तर देंहटाएं
  14. संगीता स्वरूप जी ! आप मेरे ब्लॉग पर आई और मेरी कविताओं को पसंद भी कीं , ये मेरे लिए बहुत ही ख़ुशी की बात है ! आपका बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  15. नैनी ताल की
    यह नयना कर झील
    देखती रहती है ,
    गम्भीर होते दृढ चित्त
    पहाड़ को पति वत !
    हरे भरे लम्बे होते
    स्वस्थ पेड़ों को पुत्रवत !
    गुन गुनाती बादलों के संग
    दिल खुश हवाओं को पुत्रीवत !
    yah soch... alag bilkul alag

    उत्तर देंहटाएं
  16. नयनों की इस झील के सफ़र में मैं भी तो तुम्हारे साथ थी हूँ भी मगर तुमने इतनी शिद्दत से उसे कब अपने भीतर भर लिया मैं तो जान भी न पायी ..उसका डबडबाना तो देखा पर तुम इतना छलकी यह बाद में जाना . बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति .. बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  17. हाँ प्रज्ञा ! उस अपार सुन्दरता को देखकर डबडबाई तो तुम भी थी ...तुम सम्भल गयी ! वहां के सातों ताल कुदरत के करिश्में हैं ! सधन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह जी वाह नैना झील की ये सुन्दरता और आप की ये खूबसूरत रचना कमाल कर गई।

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपको नववर्ष 2011 मंगलमय हो ।
    सुन्दर शब्दों की बेहतरीन शैली ।
    भावाव्यक्ति का अनूठा अन्दाज ।
    बेहतरीन एवं प्रशंसनीय प्रस्तुति ।
    हिन्दी को ऐसे ही सृजन की उम्मीद ।
    धन्यवाद....
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  20. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  21. जय श्री कृष्ण...आपका लेखन वाकई काबिल-ए-तारीफ हैं....नव वर्ष आपके व आपके परिवार जनों, शुभ चिंतकों तथा मित्रों के जीवन को प्रगति पथ पर सफलता का सौपान करायें .....मेरी कविताओ पर टिप्पणी के लिए आपका आभार ...आगे भी इसी प्रकार प्रोत्साहित करते रहिएगा ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. nayna naam hii itnaa sundarr hai ....!!kii iss kavitaa parr charr chand lagaa rhaa hai aurr picturee bhii bilkul naynaa jaisaa hi hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद ! हमारा आप का स्नेह सम्बन्ध अटूट रहे ! नव वर्ष की मंगलमय शुभ कामनाओं के साथ आप सबका अभिनंदन करती हूँ ! आइये हम एक सम्वेदन शील समाज के निर्माण में रचनात्मक भूमिका निभाएं ! अद्भुत है यह ब्लॉग संसार जहाँ हम अपने सुख दुःख के साथ देश की सभी तरह की घटनाओं पर व्यापक प्रतिक्रिया देते है ! एक बार फिर आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं