शनिवार, 13 नवंबर 2010

मेरे गुरु डा ०अब्दुल बिस्मिल्लाह को आज कथाक्रम सम्मान से सम्मानित किया गया है !मुझे उनका साहित्य बहुत पसंद है ! उनकी एक कविता प्रस्तुत करती हूँ !

वे और उनके बच्चे

कपास के सारे पौधे हमने
टोपियों के लिए चुन लिए
और वे
लंगोटियों का ख्वाब देखते रहे !

वे इंतजार करते रहे
कि बालियों का दूध जमें
और हमने उन्हें
मदिरालय के लिए
तोड़ लिया !

हम हवा में भरते रहे खुशबु
और वे कर्ज मांगते रहे साँस

वे सोचते रहे
कि हम जरा मुस्कराएँ
और हम
उनकी मूढ़ता पर खिलखिलाते रहे !

हम अपने बच्चों को
पटाखे दिलवाते रहे
और उनके बच्चे
बंदूक चलाना सीख गये !

15 टिप्‍पणियां:

  1. उषाजी इतनी सुंदर अर्थपूर्ण रचना पढवाने के लिए आभार...... हर पंक्ति प्रभावपूर्ण है.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. Dil ko chu gayi Rachna .......post kerne k liye bahut bahut shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम अपने बच्चों को
    पटाखे दिलवाते रहे
    और उनके बच्चे
    बंदूक चलाना सीख गये ...


    बदलते परिवेश को शशक्त जिया है इस कविता ने .... बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. वे सोचते रहे
    कि हम जरा मुस्कराएँ
    और हम
    उनकी मूढ़ता पर खिलखिलाते रहे
    उषा जी बहुत ही गहरी बात. आज के हर माँ बाप कि यही परेशानी है. आज के हालात का सही आंकलन.

    उत्तर देंहटाएं
  5. waah !
    waah !

    bahut khoob,,,,,,,,,,,,,

    kamaal ki kaarigari hai vyangya me....

    achha laga

    dhnyavaad usha ji !

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम अपने बच्चों को
    पटाखे दिलवाते रहे
    और उनके बच्चे
    बंदूक चलाना सीख गये !
    म अपने बच्चों को
    पटाखे दिलवाते रहे
    और उनके बच्चे
    बंदूक चलाना सीख गये !

    बहुत खूब .....!!
    अब्दुल बिस्मिल्लाह जी को पहली बार पढ़ा ....
    अच्छी रचना है ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वे सोचते रहे
    कि हम जरा मुस्कराएँ
    और हम
    उनकी मूढ़ता पर खिलखिलाते रहे !


    हम अपने बच्चों को
    पटाखे दिलवाते रहे
    और उनके बच्चे
    बंदूक चलाना सीख गये !


    Bahut sunder andaz--

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब्दुल बिस्मिल्लाह जी को कथाक्रम 2010 सम्मान की हार्दिक बधाई ...। उनका उपन्यास ''झीनी झीनी बीनी चदरिया '' याद आ रहा है ...! लखनऊ के लिए तो यह गौरव का क्षण है ही ,हिन्दी साहित्य के लिए भी फक्र की बात है...। बिस्मिल्लाह जी की कलम को सलाम !!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. Abhivyakti kisi bhi roop mein kiya jay-uske bhaw man ko mohit kar dete hai-kuchh sochne ke liye majboor kar dete hai .Good post.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अब्दुल भाई को बहुत बहुत बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप सबने डा० साहब की कविता पढ़ी ,बधाई दी और व्यापक प्रतिक्रिया भी ! आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद ! उम्मीद है आगे भी आप सबका सहयोग बना रहेगा ! धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  12. डा०अब्दुल बिस्मिल्लाह को बहुत-बहुत बधाई।
    ..आपको भी धन्यवाद कि आपने अच्छी कविता पढ़वाई।

    उत्तर देंहटाएं