बुधवार, 20 अक्तूबर 2010

सिली माचिसे



सिली माचिसे

सिली माचिसों की तरह ,
गलियों और सडकों पर घूमते हैं बच्चे
सदियों की सीलन सवार है ,
उनकी कच्ची उम्र के सीने पर !
घरों के पीछे टूटी छतों के नीचे ,
हमारी लापरवाही और बेरुखी ,
झुनझुने की तरह बजाती है उन्हें !

वह धूप जो तय थी उनके लिए ,
शायद किसी चांदनी के ,
साये में पलने लगी है अब !

ज्यादा नहीं बस ,
एक ही साँस चाहिए ,
तबियत भर गर्म सी !
भूख में रोटी सी ,
खेल में जीत सी ,
ठिठुरन में माँ की गोदी सी !

ठनठनाते सिक्के की तरह ,
बजने लगेंगी सिली माचिसें ,
और जल जायेंगे असंख्य दीप
इन गरीब तंगहाल उदास अंधेरों में !

19 टिप्‍पणियां:

  1. वह धूप जो तय थी उनके लिए ,
    शायद किसी चांदनी के ,
    साये में पलने लगी है अब !
    क्या बिम्ब दिया है आपने ...
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. घरों के पीछे टूटी छतों के नीचे ,
    हमारी लापरवाही और बेरुखी ,
    झुनझुने की तरह बजाती है उन्हें !
    सिली माचिसें !बहुत सुन्दर रचना क़ी है तुमने .सिली माचिसों कि सीलन को महसूस करके उनको मोतियों में पिरोना बहुत खूब है ...चांदनी भी धूप के साए में पलने लगी है ..बहुत पीड़ा है इन पंक्तियों में .सदियों कि इस पीड़ा को तुमने महसूस किया यह कवि ह्रदय का परिचायक है .इतना सुन्दर प्रवाह है कि जितनी तारीफ क़ी जाए कम होगी

    उत्तर देंहटाएं
  3. उषा जी बहुत मार्मिक कविता है। मेरा सुझाव है कि सिली की जगह सीली होना चाहिए। वह सीलन से ही बना है। कविता के साथ चित्र अच्‍छा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. राजेश जी ! वास्तव में सिली की जगह सीली होना चाहिए था ! मार्ग दर्शन और हौसला बढ़ाने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  5. उफ्फ्फ !!!!!! कितना सच कितना कड़वा और किसको मिला. नाजुक फूल से बच्चों को और आपका विश्लेषण उस दुःख और बढ़ा गया कविता बहुत कुछ कह गयी

    उत्तर देंहटाएं
  6. ''ज्यादा नहीं बस ,
    एक ही साँस चाहिए ,
    तबियत भर गर्म सी !''
    ..............
    बहुत सुंदर पंक्ति !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. usha ji

    sukh batne se bdta hai dukh batne se ghtta hai . aapne unki tkleef ko mhsoos kiya bhi our kraya bhi . aise njriye se smaj me smvedansheelta bni rhti hai jo aaj ki bhut bdi jroorat hai .
    bhut umda post . thanks .

    उत्तर देंहटाएं
  8. ज्यादा नहीं बस ,
    एक ही साँस चाहिए ,
    तबियत भर गर्म सी !
    भूख में रोटी सी ,
    खेल में जीत सी ,
    ठिठुरन में माँ की गोदी सी ..
    पीड़ा होती है समाज को देख कर ...
    ये सब बहुत कुछ तो नही देने के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. Kya khub ukera hai ek kadwe pr Sacchi Mithi Baat ko ...............Shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपको भी दीपावली की अनेक शुभकामनायें ...
    बहुत मार्मिक कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अर्थपूर्ण और मार्मिक रचना..... थोड़ी देरी से पढ़ पा रही हूँ.....
    दिवाली हार्दिक शुभकामनाये....

    उत्तर देंहटाएं
  12. वह धूप जो तय थी उनके लिए ,
    शायद किसी चांदनी के ,
    साये में पलने लगी है अब !


    ज्यादा नहीं बस ,
    एक ही साँस चाहिए ,
    तबियत भर गर्म सी !

    रचना कथ्य और शिल्प दोनों ही दृष्टि से प्रभावी है.बहुत खूब.यूँ ही लिखते रहिये. शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर अर्थपूर्ण रचना. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  14. usha di,
    deep-parv aur bhai -duuj ki bdhai kisi karan vash der se de rahi hun.shubh kamna swikar karen.
    bahut hi marmik avam dil ko chhoo lene wali bahut hi prabhavit karti hui sampurn kavita.
    ज्यादा नहीं बस ,
    एक ही साँस चाहिए ,
    तबियत भर गर्म सी !
    भूख में रोटी सी ,
    खेल में जीत सी ,
    ठिठुरन में माँ की गोदी सी ..
    bahut hi sundar abhivyakti.
    aabhar-----------------------poonam

    उत्तर देंहटाएं
  15. आम आदमी के हित में मह्त्वपूर्ण योगदान।
    सराहनीय लेखन....हेतु बधाइयाँ...ऽ. ऽ. ऽ
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  16. सड़कों पर बिखरी हुई
    बच्चों की मासूमियत को
    बहुत खूबी से शब्दों में प्रस्तुत किया है आपने
    काव्य-प्रवाह प्रभाव छोड़ता है
    अभिवादन .

    उत्तर देंहटाएं
  17. उषा जी,
    नमस्ते!
    चोट करती है.
    आशीष

    उत्तर देंहटाएं
  18. अच्छी और सार्थक कविता के लिए बधाई स्वीकार करें।

    उत्तर देंहटाएं
  19. सीली माचिसें गाँव में नंग धडग घूमते बच्चों पर लिखी गई है !जिनके लिए पढ़ाई आज भी सपनों की दुनियां है ! आप सबने व्यापक प्रतिक्रियाएं दी मै आप सबकी बहुत बहुत आभारी हूँ

    उत्तर देंहटाएं