शनिवार, 21 अगस्त 2010

सब सही कैसे हो सकता है


सब सही कैसे हो सकता है ,
भूमि के गर्भ में है ,
अंधकार गंदगी बदबू ,
सड़न और उबन,
जिसमें पलता हुआ बीज,
तेजी से अंकुआ के निकलता है ,
हरे भरे पौधे के रूप में !
वह बार बार स्मृतियों में डूब जाता है !
शायद वही रहता है उसके साथ ,
भय चिंता और घबराहट में ,
जड़ से उखड़ते उखड़ते
कहाँ आ पहुंचा है वह !
बूढी सदी थक गई है ,
पीठ पर उठाये ग्लोब !
लथपथ सी हांफती ,
जा रही है अनंत की ओर !
सब सही कैसे हो सकता है !

13 टिप्‍पणियां:

  1. जी नहीं मुझे लगता है गर्भ की ये सब चीजें ही हैं जो उसे देती हैं खाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भूमि के गर्भ में वो उष्मा भी है जो बीज को अंकुरित करती है .... नयी दिशा को ले जाती है आपकी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bahut gahan anubhootiyo ki kavita likhi aapney ,accha laga ,likhti rahiye ,blogjagat ko samraddha karti rahiye,
    regards,
    dr.bhoopendra
    jeevansandarbh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut hi khubsurat rachna.....
    umdaah prastuti...
    mere blog par is baar..
    पगली है बदली....
    http://i555.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही करने की कोशिश तो कर ही सकतें हैं न !!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. BAHUT HI BEHATREEN PRASTUTI .. PADHKAR MAN KAHIN THAHAR GAYA .. AAPNE BAHUTHI GAHRI BAAT LIKHI HAI .. MERI BADHAYI SWEEKAR KARE..

    आपसे निवेदन है की आप मेरी नयी कविता " मोरे सजनवा" जरुर पढ़े और अपनी अमूल्य राय देवे...
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2010/08/blog-post_21.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. इतने दिनों बाद आती हैं आप और हर बार कुछ अनोखा पन दे जाती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरे लेवल के ऊपर की बात है.
    आशीष
    --
    अब मैं ट्विटर पे भी!
    https://twitter.com/professorashish

    उत्तर देंहटाएं
  9. usha ji
    sb shi kaise ho skta hai
    lekin
    sb glt bhi nhi hoga
    umeed pe duniya kaym jo hai .

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रिय उषा जी, बहुत सुन्दर रचना.. स्पंदित करने वाले भावों के साथ गठा हुआ शब्द-विन्यास ..भई वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  11. और हाँ! न्वोत्पल पर बड़ी गर्म बहस छिड़ी हुई है .. मुझे लगता है आप भी वहाँ हों तो बात को एक दिशा मिल पायेगी बहस का शीर्षक है "क्या देश आज़ाद है"

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद
    उम्मीद करती हूँ आगे भी आप लोगो का सहयोग बना रहेगा !

    उत्तर देंहटाएं