रविवार, 15 नवंबर 2009

प्यास

पुराने कुएं में ,
कभी छलछला जाता है पानी ,
हौले से कोई ता तो ,
सन्नाटा टूट सा जाता !
कौन आया था ,
उस अँधेरी रात में ,
रोते हुए , आक्रोश में ,
उसकी पवित्रता के आगोश में !
डूब गया जो उसके भीतर ......
तब से ठहर गया वह
ओढ़ ली चुप्पी बदनामी की !
कि सतीत्त्व , मातृत्व ,नारीत्व
की पानिहारियां प्यासी रह गयी!
खाली खाली से मटके ,
डरी डरी ठिठोली ,
सहमी सहमी चितवन ,
की प्यास छा गयी सारी बस्ती में !
लो सूख चला एक और कुआँ !!!

10 टिप्‍पणियां:

  1. कुएं के आगोश में जो पवित्रता है वह उसकी गोद में जानेवाले की मासूम कहानी कह रहा है .. कुएं के चारो ओरे फैली निस्तब्धता उसका सन्नाटा और उसके सूख जाने की वजह मर्म को छू कर गुज़र गए .
    प्यासी रह गयी गयीं पनिहारिनें .. डरी डरी हो गयी ठिठोली ,बहुत सुंदर रचा तुमने बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. की प्यास छा गयी सारी बस्ती में !
    लो सूख चला एक और कुआँ !!!
    बहुत करीबी एहसास लिखा है आपने. चित्र भी प्रासंगिक्

    उत्तर देंहटाएं
  3. उषा जी बहुत ही ख़ूबसूरती से बहुत कुछ कह डाला है.आप अगर थोडा और खंगालती तो और भी कितने ही दर्द उसी कुएं से चीख चीख कर आपको पुकारते और अपनी दास्ताँ सुना सकते थे बहुत बहुत अच्छा. मन के अन्दर घर कर गयी ये कविता
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. जिन्दगी की प्यास !!!!!!!!! पुराना कुआं यदि सूख भी जायेगा तो शिखर से उतार लेंगे गंगा को ........जर्रे जर्रे पर थिरकेगी तृप्ति की नर्म गीली छुअन.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जीवन की कड़वी सच्चाई को रचना के माध्यम से उतारा है आपने ...... गहरे मर्म की अभिव्यक्ति है इस रचना में ......

    उत्तर देंहटाएं
  7. तब से ठहर गया वह
    ओढ़ ली चुप्पी बदनामी की !
    कि सतीत्त्व , मातृत्व ,नारीत्व
    की पानिहारियां प्यासी रह गयी!
    खाली खाली से मटके ,
    डरी डरी ठिठोली ,
    सहमी सहमी चितवन ,
    की प्यास छा गयी सारी बस्ती में !
    लो सूख चला एक और कुआँ !!!


    क्या बात है ऊषा जी.बहुत सुंदर, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. --कि सतीत्त्व , मातृत्व ,नारीत्व
    की पानिहारियां प्यासी रह गयी
    -लो सूख चला एक और कुआँ !
    ---सरल शब्दों में एक लम्बी कहानी कहती है यह कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब सुन्दर रचना
    बहुत -२ धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं